मुंबई के कुर्ला में पुलिस पर हमला करने के आरोप में एक शख्स के खिलाफ आईपीसी की धारा 353, 188 और 269 के तहत FIR दर्ज की गई है। बता दें कि 29 अप्रैल को जब पुलिस की एक टीम कुर्ला में कोरोना प्रभावित इलाके में लॉकडाउन का पालन कराने पहुँची थी तो उन पर भीड़ ने हमला कर दिया गया था। FIR दर्ज होने के बावजूद मुंबई पुलिस ने मामले में अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं की है।

वीडियो में लगभग 15-16 सेकंड के आस-पास एक शख्स को पुलिस टीम पर हमला करते हुए देखा जा सकता है। इसके साथ ही वीडियो के अंत में एक व्यक्ति को अपने अपार्टमेंट से पुलिस को गालियाँ देते हुए आप देख सकते हैं।

Copy

पुलिस पर पथराव की यह पहली घटना नहीं है। देश के अलग-अलग हिस्सों में ऐसी घटनाएँ सामने आ चुकी हैं। बुधवार (अप्रैल 29, 2020) को कानपुर में कोरोना संक्रमण के हॉटस्पॉट चमनगंज में पुलिस और मेडिकल टीम पर स्थानीय लोगों ने हमला किया। सीएम योगी ने कहा था कि आरोपितों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) और गैंगस्टर एक्ट के तहत भी सख्त कार्रवाई की जाए। कोरोना योद्धाओं पर हमले बर्दाश्त नहीं किए जाएँगे।

मंगलवार (अप्रैल 28, 2020) को पश्चिम बंगाल के हावड़ा में लॉकडाउन का पालन करवाने गई पुलिस के ऊपर हमला किया गया था। आक्रामक भीड़ को काबू करने के लिए रैपिड एक्शन फोर्स को बुलाना पड़ा था। सोमवार (अप्रैल 27, 2020) को महाराष्ट्र के औरंगाबाद में मस्जिद में नमाज पढ़ने से रोकने गई पुलिस पर लोगों ने पथराव किया। इस घटना में 1 पुलिसकर्मी घायल हो गए। मामले में पुलिस ने अब तक 15 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस पर पथराव करने वाली भीड़ में महिलाएँ भी शामिल थीं।

इससे पहले शुक्रवार को उत्तर प्रदेश में कई स्थानों पर लॉकडाउन का उल्लंघन कर सामूहिक रूप से नमाज अदा करके की गई। बहराइच, शाहजहाँपुर में नमाजियों ने पुलिस टीम पर हमला कर दिया। फिरोजाबाद में घंटों मजहबी नारे लगाए। इसके बाद एम्बुलेंस को निशाना बनाते हुए तोड़फोड़ की गई। इसी तरह दिहवाकला स्थित मस्जिद में नमाजियों ने सिपाहियों पर हमला बोल दिया।

INPUT- ऑपइंडिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here