PATNA : भारत के द्वारा सौ से अधिक मोबाइल ऐप्स पर लगाए गए बैन के बाद चीन का बयान सामने आया है. चीन की ओर से कहा गया है कि ये एक चिंता का विषय है और इससे चीनी कारोबारियों के हितों को नुकसान पहुंचा है. बीते दिन सुरक्षा का हवाला देते हुए भारत ने PUBG समेत कुल 118 मोबाइल ऐप्स को बैन कर दिया था. समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने चीन की कॉमर्स मिनिस्ट्री के हवाले से कहा है कि भारत के द्वारा जो मोबाइल ऐप्स पर बैन किया गया है. उससे चीनी इन्वेस्टर्स और सर्विस प्रोवाइडर के हितों को चोट पहुंची है. चीन इस मसले पर गंभीर है और इसका कड़ा विरोध करता है. गौरतलब है कि पिछले कुछ वक्त में ऐसा दूसरी बार हुआ है जब भारत ने चीनी ऐप्स पर बैन लगाया हो. वो भी तब जब बॉर्डर पर दोनों देशों के बीच तनाव की स्थिति बरकरार है. इससे पहले गलवान घाटी में तनाव के बाद भारत ने टिकटॉक समेत 59 ऐप्स पर बैन लगाया था और अब पबजी समेत 118 ऐप्स पर बैन लगा है.

इतना ही नहीं सुरक्षा का हवाला देते हुए भारत की ओर से बीते कुछ वक्त में कई चीनी कंपनियों को दिए टेंडर रद्द हुए हैं. कुछ विशेष क्षेत्रों में चीनी कंपनियों की एंट्री पर भी रोक लगी है. आपको बता दें कि भारत के द्वारा लिए गए फैसले का अमेरिका ने भी स्वागत किया है. अमेरिका का कहना है कि सुरक्षा की दृष्टि से भारत का फैसला बिल्कुल सही है. इससे पहले वाले फैसले पर भी अमेरिका ने भारत का साथ दिया था. दरअसल, चीन के लिए सबसे बड़ी परेशानी ये है कि जिन ऐप्स को बैन किया गया है उनके सबसे अधिक उपयोगकर्ता भारत में ही हैं. साथ ही भारत के बैन लगाने के बाद से कई और देश भी इस पर विचार कर रहे हैं, क्योंकि इस फैसले से उनके लिए कार्रवाई का रास्ता खुल गया है.

Copy

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here