PATNA : अभिनेता संजय दत्त फेफड़ों के कैंसर से पीड़ित हैं और बताया जा रहा है कि वे इसकी स्टेज-3 में पहुंच चुके हैं। मंगलवार रात को संजू के एक करीबी दोस्त ने इस बात का खुलासा किया है। संजय दो दिन पहले सांस लेने में तकलीफ और बेचैनी के लक्षणों के साथ मुंबई के लीलावती हॉस्पिटल में भर्ती हुए थे। इसके बाद उनका कोविड टेस्ट लिया गया जो निगेटिव आया था। अब जब यह खबर सामने आई है तो सूत्रों के मुताबिक, वे इलाज के लिए अमेरिका रवाना हो चुके हैं। इससे पहले संजय ने दोपहर में इंस्टाग्राम पर पोस्ट करके फिल्मों से छोटा ब्रेक लेने की जानकारी दी थी। संजय दत्त ने रिपोर्ट्स आने के बाद सोशल मीडिया पर एक पोस्ट किया था। जिसमें वे अपने काम से शॉर्ट ब्रेक लेने की बात कह रहे थे। पोस्ट में लिखा था- ‘दोस्तों, मैं मेडिकल ट्रीटमेंट्स के लिए काम से एक छोटा सा ब्रेक ले रहा हूं। मेरा परिवार और दोस्त मेरे साथ हैं। मैं अपने सभी शुभचिंतकों से निवेदन करता हूं कि वे बिल्कुल भी चिंता न करें। साथ ही अनावश्यक रूप से अटकलें भी ना लगाएं। आपके प्यार और शुभकामनाओं से मैं जल्द ही वापस आऊंगा।’ रिपोर्ट के मुताबिक संजय दत्त लंग कैंसर की थर्ड स्टेज से गुजर रहे हैं जो जानलेवा मानी जाती है। डॉक्टरों के मुताबिक लंग कैंसर दो प्रकार के होते हैं- स्मॉल सेल कैंसर और नॉन स्मॉल सेल कैंसर। स्मॉल सेल लंग कैंसर तेजी से फैलता है जबकि नॉन स्मॉल सेल लंग कैंसर कम तेजी से फैलता है।

इसकी तीन स्टेज होती है –
अर्ली स्टेज – इस स्टेज में कैंसर की शुरुआत होती है। इस दौरान शरीर के किसी एक अंग में इसकी कोशिकाएं दो दूनी चार के अंदाज में बढ़ना शुरू होती हैं। इस स्टेज में ऑपरेशन से एक लंग या वह हिस्सा हटाया जा सकता है जिसमें कैंसर के लक्षण पाए गए हों।
इंटरमीडिएट स्टेज – जब कैंसर सेल शरीर के एक अंग से दूसरे अंग में फैलने लगते हैं। इस स्टेज में कीमोथेरेपी, रेडियोथैरेपी के साथ ऑपरेशन भी जरूरी हो जाता है।
एडवांस स्टेज – जब शरीर के दूसरे हिस्सों में कैंसर कोशिकाएं पूरी तरह फैल जाती है। इस स्टेज में मरीज के ठीक होने की संभावनाएं बहुत कम होती है, लेकिन एडवांस कीमोथैरेपी से लंबे समय तक इलाज चल सकता है।

Copy

बॉलीवुड हंगामा की एक खबर के अनुसार संजय के दोस्त ने यह खुलासा किया है। उन्होंने कहा- बाबा तबाह हो गया है। उसके छोटे-छोटे बच्चे हैं। वे अभी अपनी मां के साथ दुबई में हैं। लेकिन इस भयानक खबर को सुनना उनके लिए बहुत मुश्किल होगा। मुंबई के लीलावती अस्पताल में संजय दत्त के कई सारे टेस्ट हुए जिनकी रिपोर्ट मंगलवार को आई। 29 जुलाई, 1959 को मुंबई में जन्में संजय ने 12 दिन पहले ही अपना 61वां जन्मदिन मनाया है। वे दिवंगत अभिनेता सुनील दत्त और अभिनेत्री नरगिस के इकलौते बेटे हैं। संजय ने तीन शादियां कीं है। उन्होंने तीसरी शादी 2008 में मान्यता से की, जिनसे उनके 2 जुड़वां बच्चे शाहजान और इकरा हैं। वर्क फ्रंट की बात करें तो संजय दत्त की अपकमिंग फिल्म ‘सड़क 2’ 28 अगस्त को ओटीटी प्लेटफॉर्म डिज्नी प्लस हॉट स्टार पर रिलीज होगी। महेश भट्ट के निर्देशन में बनी इस फिल्म में संजय दत्त के अलावा पूजा भट्ट, आलिया भट्ट और आदित्य रॉय कपूर भी नजर आएंगे।

संजय दत्त को कैंसर होने की बात जैसे ही वायरल हुई उनके चाहने वालों और फिल्म इंडस्ट्री और शुभचिंतकों ने सोशल मीडिया के जरिए उनकी सलामती के लिए दुआ मांगी है। संजय दत्त के परिवार में पहले भी कैंसर होने की इतिहास रहा है। संजय की मां नरगिस को भी पैंक्रियाटिक कैंसर था। जो 1981 में संजय की फिल्म रॉकी की रिलीज से 3 दिन पहले ही दुनिया से अलविदा कह गई थीं। नरगिस की याद में 1982 में सुनील दत्त ने नरगिस दत्त मेमोरियल कैंसर फाउंडेशन की स्थापना की थी। कैंसर के बाद उन्हें बेटे संजय की काफी फिक्र रहती थी। इलाज करवाने के लिए जब वो अमेरिका का जा रही थीं तब उन्होंने सुनील को खत लिखकर संजय को लेकर अपनी चिंता जाहिर की थी। उन्होंने लिखा था- ‘इस बात का खास ध्यान रखना कि संजय दोबारा बुरी आदतों में ना पड़े।’ संजय दत्त की पहली पत्नी और उनकी बेटी त्रिशाला की मां ऋचा शर्मा की मौत भी कैंसर से हुई थी। ऋचा को ब्रेन ट्यूमर था। संजय से उनकी शादी 1987 में हुई थीं और शादी के दो साल के भीतर ही उन्हें कैंसर डाइग्नोज हुआ था। उन्होंने लंदन में काफी समय तक कैंसर का इलाज कराया। 1996 में कैंसर के कारण 32 साल की ऋचा की मौत हो गई थी। वहीं, संजय दत्त 1993 मुंबई बम ब्लास्ट के केस में जेल चले गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here