ये हैं अश्विनी चौबे … केंद्र सरकार में स्वास्थ्य राज्य मंत्री है … साथ ही बिहार के बक्सर से सांसद भी है।इनके चेहरे को गौर से देखिए कितना सुकून है मानो जीते जी मोक्ष मिल गया है! देश कोरोना वायरस जैसे भयंकर आपदा से लड़ रहा है और ये आराम से पूरे परिवार के साथ निश्चित होकर रामायण देख रहे हैं … मानो जैसे इन्होंने आम लोगों को भगवान राम के भरोसे छोड़ दिया है …. गर्व है हमें ऐसे मंत्री पर … जय हो !

क्या अभी रामायण और महाभारत देखने का यह सही वक़्त है ?अभी घर में बैठ कर रामायण और महाभारत देखने में कई फायदे हैं-

Copy
  1. कितने लोगो को कोरोना हो रहा है उसकी जानकारी नहीं मिलेगी क्योकि बिहार में सही सही जानकारी किट के अनुपलब्ध होने के कारण नहीं आ रही है।
  2. पलायन कर रहे कितने लोगों को क्या क्या मिल रहा है, इस पर ध्यान नहीं जायेगा क्योंकि सरकार केवल डपोरशंखी घोषणा कर रही है और खबरिया चैनलों पर कुछ औऱ दृश्य दिखाई दे रहा होता है। कुछ सामाजिक कार्यकर्ता और संगठन सीमित संसाधनों के हिसाब से मजदूरों की सहायता कर रहे हैं।
  3. घर का माहौल ठीक रहेगा क्योंकि महिलाएं अधिकांशतः भक्त ही हैं जिनको देश की आर्थिक स्थिति से कोई लेना देना नहीं होता है।
    5.अमेरिका ने चीन को यह कहा, पाकिस्तान ने पीओके में कोरोना मरीज छोड़ दिया जैसे फ़ालतू जानकारी से बचे रहेंगे क्योकि देश स्तर पर सामाजिक दूरी बनाने से अधिक कोई कारगर नीति नहीं है जिसके आधार पर कोई जानकारी प्राप्त हो सके।
  4. न चाहते हुए भी चार घन्टे तक रामायण और महाभारत देखने से थोड़ी बहुत चर्चा तो पुरातन काल पर बात हो ही जायेगी जो सत्ता पक्ष चाहती है।
    इसलिये रामायण और महाभारत देखिये, इतिहास के मिथक और यथार्थ को समझने की चेष्टा करते हुए अपने पूर्वजों को समझिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here