Patna: राज्य सरकार को जहां बिहार में बढ़ती कोरोन मरीजों की तादाद ने चिंता में डाल दिया है, तो वहीं वह अपनी जनता के साथ खड़ी नजर आने के लिए कई राहत का ऐलान भी कर रही है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लगातार इसको लेकर बैठकें भी कर रहे हैं और अधिकारियों को निर्देश भी जारी कर रहे हैं. शुक्रवार को इसी क्रम में मुख्यमंत्री राहत कोष के न्यासी परिषद की बैठक हुई. उनकी अध्यक्षता में हुई इस बैठक में फैसला लिया गया कि कोरोना संक्रमण से जिन लोगों की मौ/त हुई, उनके परिजनों को चार लाख का मुआवजा दिए जाएगा.

आपको बता दें कि शुक्रवार को मुख्यमंत्री राहत कोष के न्यासी परिषद की 20वीं बैठक में 24 मुद्दों पर हुई विस्तार से चर्चा की गई. इस दौरान बिहार सरकार ने मुख्यमंत्री विशेष सहायता योजना के तहत अब तक 20.28 लाख प्रवासियों के खाते में एक-एक हजार भेजे जाने की भी बात कही.

Copy

मुख्यमंत्री राहत कोष से आपदा प्रबंधन विभाग को 50 करोड़ की और मदद देने का भी फैसला लिया गया है. साथ ही आपको बता दें कि बाढ़ प्रभावित 10 जिलों में 100 आश्रय स्थल बनाये जाने की प्रक्रिया भी शुरू की गई है. वहीं, कालाजार उन्मूलन के लिए प्रत्येक पीड़ित को 6600 रुपये दिये जा रहे हैं और साथ ही मुक्त कराये जा रहे हर बाल श्रमिक को पुनर्वास के लिए 25 हजार की मदद भी दी जा रही है.

बता दें कि बिहार में शुक्रवार को भी कोरोना के 179 नए मरीज मिले. इसके साथ ही राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2166 हो गयी. कोरोना संक्रमण के मामले में तेजी से बढ़ते आंकड़े के आधार पर अब बिहार पंजाब को पीछे छोड़ते हुए कोरोना वायरस से प्रभावित टॉप 10 राज्यों में शामिल हो गया है. पिछले 2 दिनों के आंकड़े देखें तो कुल 390 मरीज नए मरीजों की पहचान हुई है, इनमें सबसे अधिक पटना में 186 मरीज हैं. इसके साथ ही एक अहम जानकारी यह है कि अब तक 629 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है, जबकि 11 लोगों की मौत हो चुकी है.

शुक्रवार को जिन जिलों में सबसे अधिक मामले आए उनमें मधुबनी में 34, बेगूसराय में 20, गोपालगंज में 8, सारण में छह, नवादा में तीन, वैशाली और अरवल में एक-एक मरीज कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए. इनके अलावा समस्तीपुर में 10, पूर्वी चंपारण में 6, पश्चिमी चंपारण में पांच, मुजफ्फरपुर में पांचस कटिहार में भी पॉजिटिव मरीज मिले हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here