PATNA : बिहार के हर जिले में कोरोना मरीजों(Corona Patients in Bihar) के लिए चार-चार वेंटीलेटर के साथ डेडिकेटेड आईसीयू की व्यवस्था की होगी। ताकि जिले में भी कोरोना के गंभीर बीमार लोगों का बेहतर इलाज हो सके। राज्य में अभी 394 केंद्रों पर कोरोना मरीजों का इलाज चल रहा है, जिनमें दस कोविड अस्पताल, 94 कोविड हेल्थ सेंटर और 290 कोविड केयर सेंटर हैं। इन सभी केंद्रों पर अभी 43 हजार बेड की क्षमता है, जिनमें 26 हजार बेड तैयार कर लिये गए हैं। वहीं 383 वेंटीलेटर और 270 क्षमता के आईसीयू उपलब्ध हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर स्वास्थ्य सुविधाओं और जांच की संख्या निरंतर बढ़ाई जा रही है।

स्वास्थ्य विभाग(Health Department) के सचिव लोकेश कुमार ने बुधवार को प्रेस कांफ्रेस में बताया कि राज्य में 12 हजार ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध हैं। वहीं 2500 बेड पर पाइप के माध्यम से ऑक्सीजन आपूर्ति की व्यवस्था कर दी गई है। उन्होंने कहा कि हल्के लक्षण वाले मरीज अथवा बिना लक्षण वाले जो होम क्वारंटाइन में नहीं रह सकते हैं, उन्हे कोविड केयर सेंटर में रखा जा रहा है। वहीं, लक्षण वाले मरीज का इलाज कोविड हेल्थ सेंटर में किया जा रहा है, जिनमें सभी अनुमंडल अस्पताल भी आते हैं। केयर सेंटर में 33 हजार और हेल्थ सेंटर में 6342 बेड की क्षमता है। इन जगहों पर भी ऑक्सीजन के साथ बेड की व्यवस्था की गई है। वहीं गंभीर मरीजों को भी कोविड अस्पताल में भेजा जा रहा है। कोविड अस्पताल में 3800 बेड की क्षमता है, जिसमें 3000 बेड तैयार हैं। सभी जिलों में भी ऐसी व्यवस्था की जा रही है, जहां गंभीर कोरोना मरीज का बेहतर इलाज हो सके।

Copy

स्वास्थ्य सचिव ने यह भी कहा कि दो दिनों के अंदर प्रतिदिन 20 हजार से अधिक कोरोना संक्रमण की जांच का लक्ष्य प्राप्त कर लिया जाएगा। बुधवार को 17794 सैंपल की जांच हुई। जांच की संख्या के साथ-साथ इसका दायरा भी बढ़ाया जा रहा है। अब सभी प्रखंडों में कोरोना संक्रमण के सैंपल की एंटीजन किट्स से जांच शुरू कर दी गई है। सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सचिव अनुपम कुमार ने कहा कि कोरोना मरीजों के लिए बेड की संख्या निरंतर बढ़ायी जा रही है। निर्णय लिया गया है कि जो भी नये बेड बढ़ाएं जाएंगे, वे ऑक्सीजन सुविधा के साथ होंगे। उन्होंने कहा कि कंट्रोल रूम से मरीजों को फोन कर उनका स्वास्थ्य की जानकारी लेने की व्यवस्थ शुरू कर दी गई है। व्यवस्थाओं का ऑनलाइन प्रबंधन हो, इसके लिए भी स्वास्थ्य विभाग कार्य कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here