Patna: लॉकडाउन के 25वें दिन सीआरपीएफ 132 बीएन कंट्रोल रूम में मदद के लिए फोन किया गया. यह फोन छज्जुबाग इलाके की रहने वाली 79 वर्षीय की चिनम्मा एपेन का था, जिन्होंने चिकित्सा सहायता का अनुरोध किया. लॉकडाउन से पहले महिला का फीमर फ्रैक्चर के लिए ऑपरेशन किया गया था और उसे जांघ के पार 30 मेटैलिक स्टेपल लगाये गये थे. पांच दिन पहले स्टेपल को हटाया जाना था, लेकिन सख्त लॉकडाउन में वह असहाय हो गयी.

बुजुर्ग होने के नाते और कमजोर स्वास्थ्य के कारण उन्हें कोरोनो वायरस संक्रमण का खतरा भी था. मामले का संज्ञान लेते हुए और इसके मानवीय पहलू को प्राथमिकता देते हुए कमांडेंट (सीसीडी) डीपी भारद्वाज ने 72 बीएन के डॉ विवेकानंद एसएमओ को कोविड 19 एक्सपोजर रोकथाम के लिए दिशा-निर्देशों के दायरे में जरूरतमंदों की मदद करने के लिए 131 बीएन के साथ मिल कर मदद करने को कहा. दिये गये पते पर डॉ विवेकानंद ने पूरी सावधानी बरतते हुए (पीपीइ किट, दस्ताने, टोपी, मास्क और जूता कवर पहने हुए) महिला की जांच की.

Copy
सीआरपीएफ के जवानों ने की  वृद्ध महिला की मदद

सीआरपीएफ के जवान अपने साथ लाये उपकरणों की मदद से स्टेपल को हटाकर घाव की ड्रसिंग की गयी. साथ ही इसके देखभाल के लिए उचित परामर्श भी दिया गया. यही नहीं डॉ विवेकानंद ने चिनम्मा को आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करने में भी मदद की और इसके उपयोगों के बारे में भी बताया गया. समय पर उपचार मिलने पर और बिना शर्त मदद के लिए सीआरपीएफ 131 बीएन के प्रति आभार व्यक्त किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here