PATNA : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आज 516 करोड़ की लागत से निर्मित कोसी महासेतु का उद्घाटन कर दिया। पीएम मोदी सुपौल के सरायगढ़ से आसनपुर कुपहा के बीच ट्रेन भी रवाना किया. इस योजना के शुरू होने से कोसी क्षेत्र से मिथिलांचल का सीधा रेल मार्ग से जुड़ाव हो जाएगा। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री के साथ रेल मंत्री,बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार,डिप्टी सीएम सुशील मोदी भी मौजूद रहे। रेल परियोजनाओं के उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पीएम मोदी की जमकर तारीफ की।सीएम नीतीश ने कहा कि आज हमारे लिए काफी खुशी का दिन है।हम जब रेल मंत्री थे तब कई योजनाओं की शुरूआत कराई थी.तत्कालीन पीएम अटल बिहारी बाजपेयी के हाथों शिलान्यास हुआ था।लेकिन अब उन योजनाओं का उद्घाटन हो रहा है।मेरे लिए यह काफी खुशी का दिन है।सीएम नीतीश ने कहा कि कोरोना काल में लॉकडाउन में भी रेलवे ने हमारी काफी मदद की ।उन्होंने कहा कि बाहर में फंसे लोगों को बिहार लाने में रेलवे ने काफी मदद की।सीएम नीतीश ने आगे कहा कि हमारे डिप्टी सीएम सुशील मोदी बता रहे थे कि लाखो प्रवासी मजदूरों को बिहार लाने में रेलवे ने काफी मदद की।लेकिन हम डिप्टी सीएम साहब से कहना चाहेंगे कि कोई प्रवासी नहीं है।प्रवासी शब्द का प्रयोग न किया जाए।पूरा देश एक है और अगर कोई काम करने किसी दूसरे राज्य में जाता है तो वह प्रवासी नहीं है. श्रमिकों के आगे प्रवासी शब्द का प्रयोग न किया जाए.

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम नीतीश ने कहा कि आज इस एतिहासिक रेल पुल का उद्घाटन हुआ यह काफी खुशी की बात है।हम रेल मंत्री रहे हैं और उसके बाद बिहार का काम देख रहे हैं।इस पुल के निर्माण को लेकर हमलोगों ने काफी प्रयास किया। यह मेरे लिए व्यक्तिगत खुशी की बात है.मेरे जैसे व्यक्ति के लिए कितनी प्रसन्नता होगी आप समझ सकते हैं।हमलोगों ने इन रेल परियोजनाओं की शुरूआत की थी और आज यह पूरा हुआ सीएम नीतीश ने कहा कि 10 सालों में कहां काम हुआ था? सीएम नीतीश कहा कि मोदी जी आप प्रधानमंत्री बने तो अब इन रेल परियोजनाओं का उद्घाटन हो रहा है।

Copy

सीएम नीतीश ने मांग किया कि नेउरा से किऊल रेल लाईन बन जायेगा तो काफी सहूलियत होगी,नौ किमी की दूरी कम हो जाएगी। जमालपुर में रेल इंस्ट्यूट काफी समय से काम कर रहा था।यहां से मेकेनिकल इंजीनियर निकलते थे।अभी यह संस्थान में काम रूक गया है इसको फिर से चालू करा दीजिए और एक और बिहार में चालू करा दीजिए। इस रेल पुल के शुरू होते ही निर्मली से सरायगढ़ की 298 किलोमीटर की दूरी घटकर महज 22 किलोमीटर रह जाएगी। अभी निर्मली से सरायगढ़ तक के सफर के लिए लोगो को दरभंगा-समस्तीपुर-खगड़िया- मानसी-सहरसा होते हुए 298 किमी की दूरी तय करनी होती है। इस नए पुल पर जून में ही ट्रेनों के परिचालन का ट्रायल सफल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here