PATNA : महागठबंधन छोड़ एनडीए में आई विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के अध्यक्ष मुकेश सहनी पर बनियापुर से भाजपा के पूर्व विधायक तारकेश्वर सिंह ने दो करोड़ रुपए में टिकट बेचने का आरोप लगाया है। तारकेश्वर के अनुसार भाजपा ने उनका टिकट काट वीआईपी को सीट दे दी और मुकेश सहनी से मिलने को कहा। मिलने गए तो घूम-फिर कर दो करोड़ रुपए मांगे गए। मीडिया से लंबी बातचीत में तारकेश्वर ने जो पूरा घटनाक्रम बताया, वीआईपी ने उससे ही इनकार किया है। वीआईपी के अनुसार तारकेश्वर कभी उनसे मिले ही नहीं। भाजपा से नाराजगी और वीआईपी पर इस आरोप के बाद तारकेश्वर सिंह ने लोक जनशक्ति पार्टी ( लोजपा) का दामन थाम लिया है।

2015 चुनाव में भाजपा प्रत्याशी रहे तारकेश्वर सिंह 56 हजार वोट लाकर हार गए थे। इस बार चुनाव की सुगबुगाहट शुरू हुई तो ये भाजपा के बड़े नेताओं के पास गए। तारकेश्वर सिंह के मुताबिक बड़े नेताओं की सहमति लेकर बनियापुर विधानसभा से चुनाव की तैयारी में जुट गए। लेकिन ऐन वक्त पर बनियापुर विधानसभा सीट वीआईपी को दे दी गई। फिर यह तय किया गया कि तारकेश्वर सिंह को वीआईपी से चुनाव लड़ाया जाए और उन्हें कहा गया कि वीआईपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुकेश सहनी से मिल लीजिए। तारकेश्वर कहते हैं, जब मैं मुकेश सहनी से मिलने गया तो सहनी ने मुझसे पैसों की डिमांड कर दी। वह भी एक से दो करोड़। मैं इस तरह का काम नहीं कर सकता था इसलिए लौट आया। अब मैंने लोजपा से टिकट लेकर बनियापुर से चुनाव लड़ने का निर्णय किया है।

Copy

इधर मीडिया ने मुकेश सहनी से सीधे पूछना चाहा, लेकिन वह लाइन पर नहीं आए। ऐसे में उनके राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव मिश्रा से बात हुई। उन्होंने इस पूरे मामले का खंडन किया और कहा कि इस तरह की कोई बात नहीं हुई है। किसी भी तरह से तारकेश्वर सिंह से कोई संपर्क नहीं हुआ है। राजीव मिश्रा ने बताया उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष मुकेश सहनी से तारकेश्वर सिंह की कभी मुलाकात नहीं हुई है। तारकेश्वर सिंह को टिकट नहीं मिलने के कारण फ्रस्ट्रेशन है, इसलिए वह उल-जुलूल आरोप लगा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here