PATNA : आईपीएल 13 के पहले मुकाबले में चेन्नई सुपर किंग्स ने मुंबई इंडियंस को 5 विकेट से हरा दिया. मुंबई के 162 रन के लक्ष्य को चेन्नई की टीम ने 5 विकेट खोकर 4 गेंद शेष रहते हुए 166 रन बनाकर पूरा कर लिया. चेन्नई की ओर से डू प्लेसिस 44 गेंदों में 6 चौकों की मदद से 58 रन बनाकर नाबाद लौटे, वहीं कप्तान महेंद्र सिंह धौनी 2 गेंद में बिना कोई रन बनाये नाबाद पवेलियन लौटे. अबुधाबी के शेख जायेद स्टेडियम में अंबाती रायडू ने तूफानी बल्लेबाजी का नजारा पेश किया. उन्होंने 48 गेंदों में 6 चौकों और 3 छक्कों की मदद से 71 रन की विस्फोटक पारी खेली. जिससे केवल 6 रन पर दो विकेट खोकर संकट में फंसी चेन्नई की टीम को बड़ी राहत मिली. हालांकि रायडू विस्फोटक पारी को शतक में तब्दील नहीं कर पाये और 16वें ओवर में राहुल चहर की गेंद पर आउट हो गये. मुंबई के लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नई सुपर किंग्स की शुरुआत अच्छी नहीं रही. लगातार दो ओवर में चेन्नई ने अपने दो टॉप बल्लेबाज का विकेट खो दिया. ओपनर शेन वॉटसन 4 रन बनाकर बोल्ट की गेंद पर पगबाधा आउट हुए, वहीं मुरली विजय जेम्स पैटिनसन की गेंद पर केवल एक रन बनाकर पगबाधा आउट हुए.

पहले पांच ओवर में चेन्नई सुपर किंग्स ने दो विकेट खोकर 23 रन बनाये. चेन्नई ने पहले और दूसरे ओवर में अपने दोनों ओपनरर वॉटसन और मुरली विजय का विकेट खो दिया. पहले ही ओवर में बोल्ट ने मुंबई को पहली सफलता दिलायी, फिर दूसरे ही ओवर में जेम्स पैटिनसन ने विजय को पवेलियन भेजकर चेन्नई को दूसरा झटका दिया. लुंगी एनगिडी की अगुवाई में डेथ ओवरों की कसी हुई गेंदबाजी और फाफ डुप्लेसिस के शानदार क्षेत्ररक्षण के दम पर चेन्नई सुपरकिंग्स ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के उदघाटन मैच में शनिवार को यहां मौजूदा चैंपियन मुंबई इंडियन्स को नौ विकेट पर 162 रन ही बनाने दिये. मुंबई एक समय 180 से अधिक रन बनाने की स्थिति में दिख रहा था लेकिन उसने आखिरी छह ओवरों केवल 41 रन बनाये और इस बीच छह विकेट गंवाये. उसकी तरफ से सौरभ तिवारी ने सर्वाधिक 42 रन बनाये. इसके लिये उन्होंने 31 गेंदें खेली तथा तीन चौके और एक छक्का लगाया. चेन्नई के लिये एनगिडी ने तीन जबकि दीपक चाहर और रविंद्र जडेजा ने दो-दो विकेट लिये.

Copy

लंबे अर्से बाद प्रतिस्पर्धी मैच खेल रहे महेंद्र सिंह धौनी ने टॉस जीता, चेन्नई सुपरकिंग्स ने पहले क्षेत्ररक्षण किया और दीपक चाहर ने लगातार तीसरे साल सत्र की पहली गेंद करने का रिकार्ड बनाया. रोहित शर्मा (12) ने चौके इसका स्वागत किया. पिच धीमी थी और चेन्नई के गेंदबाजों ने बीच बीच में ढीली गेंदें भी की. मुंबई के सलामी बल्लेबाज रोहित और क्विंटन डिकाक (20 गेंदों पर 33, पांच चौके) चार ओवर तक स्कोर 45 रन तक ले गये, लेकिन चार गेंद के अंदर ये दोनों पवेलियन लौट गये. धौनी ने पांचवें ओवर में ही पीयूष चावला के रूप में स्पिन आक्रमण लगा दिया और इस लेग स्पिनर ने कप्तान को निराश नहीं किया. रोहित उनकी गेंद पर सही टाइमिंग से शॉट नहीं लगा पाये और मिडऑफ पर सैम कुर्रेन को आसान कैच दे बैठे. इंग्लैंड से दो दिन पहले यहां पहुंचने के बाद ही मैच खेल रहे आलराउंडर कुर्रेन के अगले ओवर में डिकॉक ने भी मिडविकेट पर शेन वाटसन को कैच का अभ्यास कराया. तिवारी ने जडेजा पर इस टूर्नामेंट का पहला छक्का लगाया जिससे दस ओवर के बाद स्कोर दो विकेट पर 86 रन पहुंच गया. ऐसे मौके पर कुर्रेन ने सीमा रेखा पर सूर्यकुमार यादव (16 गेंदों पर 17) का कैच लपक दिया. पीठ दर्द के कारण लगभग एक साल बाद खेल रहे हार्दिक ने आते ही अपने तेवर दिखाये. उन्होंने जडेजा पर लगातार दो छक्के जड़कर स्कोर बोर्ड में अपनी जीवंत उपस्थिति दर्ज कराने के साथ मुंबई का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया. इसके बाद डुप्लेसिस के बेहतरीन क्षेत्ररक्षण का शानदार नजारा देखने को मिला. उन्होंने तिवारी और हार्दिक दोनों के छक्के के लिये जा रहे शॉट को सीमा रेखा पर बड़ी खूबसूरती से कैच में बदलकर जडेजा को एक ओवर में दो विकेट दिलवाये. डेथ ओवरों का दारोमदार क्रुणाल पांड्या (तीन) और कीरेन पोलार्ड (18) पर था लेकिन एनगिडी ने इन्हें लगातार ओवरों में पवेलियन भेजकर मुंबई की उम्मीदों पर पानी फेरा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here