Patna: बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और वर्तमान में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने को’रोना वाय’रस के खिलाफ चल रही जंग के बीच बड़ी पहल की है, उन्होंने अपना एक महीने का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा करने के एेलान के साथ ही कहा है कि अगर बिहार की सरकार चाहे तो को’रोना से लड़ने में नेता प्रतिपक्ष के नाते आवंटित आवास का isolation, जाँच केंद्र या क्वारंटाइन के लिए इस्तेमाल कर सकती है.

तेजस्वी ने बिहार के नागरिकों से अपील की है और कहा है कि इस कठिन घड़ी में सभी सामर्थ्यवान राज्यवासी ज़िम्मेदारी से अपना-अपना कर्तव्य निभाएँ. साथी बिहारवासियों के जीवन सुरक्षा का ज़िम्मा लें. जितना बन सके, उतना करें. मास्क, हैंड सैनिटाइजर और ज़रूरी वस्तुओं की कालाबाज़ारी ना करे.

Copy

तेजस्वी ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा है और कहा है कि हम कोरोना से लड़ेंगे, मिलकर उसे हराएँगे, बिहार को सुरक्षित बनाएँगे.

तेजस्वी ने अपने पोस्ट में लिखा है कि बिहार में कोरोना वायरस से फैलाव और उसके चलते हुई मृत्यु दुखद है ऐसे में समय आ गया है कि हम सभी इस बीमारी के खिलाफ लड़ाई तेज करें. सरकार को हर लापरवाही त्याग कर त्वरित एक्शन लेना होगा . उन्होंने लिखा है कि इस लड़ाई में हम सभी सरकार का हर संभव सहयोग करने के लिए तैयार हैं

तेजस्वी ने लिखा है कि मुझे नेता प्रतिपक्ष होने के नाते पटना में जो सरकारी आवास मिला है मैं चाहूंगा कि उस आवास का उपयोग सरकार अपनी सुविधानुसार करें और कोरोना से लड़ने के लिए सार्थक कदम उठाए. तेजस्वी ने लिखा है कि बिहार में कोरोना से एक जान चली गई है लेकिन अब और नहीं. कोरोना वायरस के खिलाफ इस लड़ाई में सरकार की सकारात्मक पहल में पूरा सहयोग देंगे लेकिन किसी भी स्तर पर ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी क्योंकि आखिरकार सवाल एक जिंदगी का है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here